File Handling - c programming in hindi tutorials

file handling c programming in Hindi: हम जब भी program को  run करते है और उसके बाद जब program end होता है तो program में store सारे variables की values और data delete हो जाता है| 

इसलिए program के data को computer में permanently store करने के लिए हम program के data को एक file में store करवा देते है और इस method को हम file handling कहते है| 


File Handling c programming Hindi tutorials

File Handling c programming hindi tutorials

c programming कुछ ऐसे function उपलब्ध करवाती है जिससे हम file को open, read, write और close कर सकते है | 


File pointer in Hindi 

program में file को इस्तेमाल करने के लिए हमें एक file pointer को  declare करना पड़ता है यह pointer file को read करने और file में data को write करने के काम आता है | 

Syntax

FILE  *name;


Example

FILE *fptr;



open a file in Hindi 

file को program में इस्तेमाल करने के लिए पहले file को open करना पड़ता है c programming में file को open करने के लिए हम fopen() function का इस्तेमाल करते है| 

Note: यह ध्यान रहे की आप जिस file को open कर रहे है वो file आपके computer में होनी चाहिए | 

syntax

file_pointer = fopen("file_path", "opening_mode");


Example:

fptr = fopen("abc.txt", "w");


file_pointer: यह वो file pointer है जिसको हमने program में  declare किया है | 

file_name:  यहाँ पर file_path का मतलब है वो location जहा file store है जैसे अगर file c/user folder में है तो आपको c/user/filename.txt पूरा path देना है | 

opening_mode: opening mode का मतलब है की हम किस mode में file को open कर रहे है जैसे example में हमने w mode इस्तेमाल किया है यहाँ पर w का मतलब write से है मतलब file पर हम write करना चाहते है | 


Closing a file in Hindi

c programming में हम file को close करने के लिए fclose() function का इस्तेमाल करते है | 

Syntax 

fclose(file_pointer)


Example

fclose(fptr)


file_pointer: यहाँ पर हम उस file के pointer का इस्तेमाल करेंगे जिस file को हमें close करना है| 


reading from a file in Hindi

c programming में हम file को read करने के लिए fscanf() function का इस्तेमाल करते है| 

syntax

fscanf(file_pointer, "format_specifier", variable_reference);


Example

fscanf(fptr, "%d", &num);


format_specifier: example में हम %d format specifier का इतेमाल कर रहे है इसका मतलब है की हम एक integer value को file से read कर रहे है | 

variable_reference: example में हमने &num का इस्तेमाल किया है इसका मतलब है की हम num variable में value को store करवा रहे है | 


Example c program to read a file in Hindi


#include <stdio.h>
#include <stdlib.h>
#include <conio.h>

int main()

{
   int num;
   FILE *fptr;

   if ((fptr = fopen("name.txt","r")) == NULL){

       printf("Error! opening file");
       exit(1);
   }

   fscanf(fptr,"%d", &num);


   printf("Value of n=%d", num);

   fclose(fptr); 
  
   getch();
   return 0;
}


Explain
यहाँ पर हमने program में एक name.txt file को fopen() function के मदद से open किया है अगर किसी कारण से file नहीं खुलती है तो output screen पर एक message "Error! opening file" print होगा और program terminate हो जायेगा  
अगर file open हो जाती यही तो compiler fscanf() function के इस्तेमाल से एक integer value को read करेगा और printf() function के मदद से उसे print करवाएगा और उसके बाद fclose() function के मदद से file को close कर देगा | 


Writing to file in Hindi

c programming में हम file में लिखने के लिए fprintf() function का इस्तेमाल करता है| 

Syntax

fprintf(file_pointer, "format_specifier", variable_name);


Example

fprintf(fptr,"%d",num);


इसका मतलब है की हम file में num variable की value को लिख रहे है | 


Example c program to write in a file in Hindi


#include <stdio.h>
#include <stdlib.h>
#include <conio.h>

int main()

{
   int num;
   FILE *fptr;

   fptr = fopen("name.txt","w");


   if(fptr == NULL)

   {
      printf("Error!");   
      exit(1);             
   }

   printf("Enter num: ");

   scanf("%d",&num);

   fprintf(fptr,"%d",num);

   fclose(fptr);
    
   getch();
   return 0;
}


Explain
जैसे की आपको program में दिख रहा है की हम fprintf() function की मदद से हम num variable की value को name.txt file में write कर रहे है | 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ